We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

Hindi essay on nadi ki atmakatha book

Nadi ki Atmakatha Dissertation in Hindi – नदी hindi essay about nadi ki atmakatha book आत्मकथा पर निबंध

Content Date: Sep 08, 2019 | By: Taiyari Current information


इसे research document dealing having stress जरुर देखें :-

दोस्तो आज हमने Nadi ki Atmakatha Composition through Hindi लिखा है नदी की आत्मकथा पर निबंध कक्षा 1, Two, 3, Check out, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 direct event meaning essay विद्यार्थियों के लिए है.

इस निबंध की सहायता से विद्यार्थियों को नदी के उद्गम से लेकर नदी के समुद्र में मिलने तक की आत्मकथा देखने को मिलेगी.

इस लेख की सहायता से हम पता लगा सकते हैं कि नदी किस प्रकार हमारे जीवन को सरल बनाती है और पृथ्वी के प्रत्येक प्राणी का जीवन कैसे बचाती है.

नदी अपनी व्यथा भी essay concerning knowledge as well as employment है क्योंकि मनुष्य द्वारा नदी को दिन-प्रतिदिन प्रदूषित किया जा रहा है.

Nadi ki Atmakatha Essay or dissertation through Hindi for School 1,2,3,4,5


मैं नदी हूं आज मैं मेरी आत्मकथा सुनाने जा रही हूं मेरा उद्गम स्थान ऊंचे पहाड़ झरने और हिमालय से बर्फ पिघलने के कारण मैं अस्तित्व में आती हूं.

मैं जब हिमालय से चलती हूं तब मैं बहुत ही पतली और मुझ में पानी भी बहुत कम होता है लेकिन जैसे-जैसे में मैदानी क्षेत्रों की तरफ बढ़ती हुई मेरे पानी का स्तर बढ़ जाता है ielts audit tips and hints writing essay मैं चोड़ी भी होती जाती हूं.

भारत में मेरे जैसी कई नदियां बहती हैं जैसे गंगा, यमुना,सिंधु, ब्रह्मपुत्र, गोदावरी,नर्मदा आदि है यह मेरे जैसी ही विशाल है.

मैं जहां से भी निकलती हूं sport and even community components essay क्षेत्र को हरा-भरा बना देती हूं और वहां अगर बंजर भूमि भी है तो उसको भी उपजाऊ बना देती हूं.

मैं जब बहना शुरू करती हूं तब मेरे आगे कई कठिनाइयां आती हैं जैसे ऊंचे पहाड़ बड़े-बड़े पेड़-पौधे आदि लेकिन मैं उन सबको काटते हुए निरंतर बहती रहती हूं मैं कभी हार नहीं मानती हूं.

मैं कई सालों तक निरंतर अपने पथ पर बहती रहती हूं लेकिन कभी-कभी धरती में भूकंप आने के कारण कुछ स्थान ऊंचे हो जाते हैं तो मैं भी अपना रास्ता बदल लेती हैं लेकिन यह हजारों सालों में एक बार ही होता है.

मैं जहां से भी बैठी हूं उसके आसपास इंसानी बस्तियां और जंगली जीव जंतु अपना घर बना लेते हैं क्योंकि मेरे जैसे ही उनका जीवन चलता है.

मैं हमेशा सभी प्राणियों hindi essay concerning nadi ki atmakatha book भला करती हूं लेकिन बदले में मुझे इंसानों द्वारा सिर्फ प्रदूषण ही मिलता है इस बात का मुझे बहुत दुख होता है क्योंकि मेरा पवित्र और शुद्ध ali niknejad thesis प्रदूषित हो जाता है जिसके कारण कई मूक प्राणियों की मृत्यु हो जाती है.

मुझमें कहीं जल अधिक होता है तो कहीं कम होता है वर्षा के मौसम में मुझ में अधिक पानी होता है और मैं उस समय बहुत तेजी से बहती हूं.

हिन्दी की सबसे लोकप्रिय वेबसाइट

मैं बहती हुई अंत में समुंदर में जा कर मिल जाती हूं.

Nadi ki Hindi essay for nadi ki atmakatha book to get Style 6 to 12


मैं नदी हूं आज मैं आपको मेरे उद्गम से लेकर अत तक के सफर की आत्मकथा सुनाने जा रही हूं. मेरे उद्गम के कई स्थान है मैं कभी हिमालय से बहती हूं तो कभी पहाड़ों से, झरनों से तो forced beat essay मैं वर्षा के जल से अस्तित्व में आती हूं.

मैं जब बहना चालू करती हूं तब मैं बहुत कम स्थान घेरती हूँ.

लेकिन जैसे-जैसे मैं मैदानी क्षेत्रों की ओर बढ़ती हूं वैसे-वैसे मेरा आकार भी बड़ा होता जाता है और मैदानी क्षेत्रों में पहुंचने के बाद मेरा आकार इतना बड़ा हो जाता है कि मेरे एक तट से दूसरे तट पर जाने के लिए नाव या पुल का सहारा लेना पड़ता है.

यह उसी प्रकार है जिस प्रकार मनुष्य जन्म लेता है तो छोटा होता है और जैसे-जैसे समय बीतता है वह बड़ा होता चला जाता है उसी प्रकार जब मेरा जन्म होता है तो मैं बहुत छोटी होती हूं लेकिन दूरी बढ़ने के साथ मैं भी बड़ी होती जाती हूं.

मैं जब बहना शुरू करती हूं तब मेरे सामने कई प्रकार की बाधाएं आती हैं जैसे कभी कोई बड़ा पहाड़ आ जाता है तो मैं डरती master connected with guys essay हूं मैं उसे काट कर आगे बढ़ जाती हूं.

मुझ में बहुत शक्ति होती है मैं किसी भी कठोर से कठोर वस्तु को काट सकती हूं चाहे वो बड़ा पहाड़ी क्यों ना हो.

मैं जब बहती हुई पहाड़ों से गिरती हूं तब मैं बहुत तेज गति से मैदानी क्षेत्रों की ओर बढ़ती हूं इस समय मेरे आगे कुछ भी आ जाए मैं उसे अपने साथ diet study timeframe paper ले जाती हूं.

और जब मैं मैदानी क्षेत्रों में पहुंची हूं तब भूमि समतल होने के कारण मेरा बहाव भी कम हो जाता है फिर मैं सांप की तरह टेढ़ी-मेढ़ी बहती हूं इसी स्थान पर मुझ में सबसे ज्यादा जल समाया हुआ होता है.

मैं जब वहां बहना चालू करती हूं तब मैं अकेली नहीं होती हूं मेरी जैसी कई नदियां और भी होती है वह बीच रास्ते में मुझसे मिलती है और मुझ में समा जाती हैं जिससे मैं और विशालकाय हो जाती हूं.

मैं बहती हुई जिस भी क्षेत्र से गुजरती हूं वहां की भूमि को हरा-भरा कर देती हूं वहां पर सुख और शांति ला देती हूं.

Nadi ki Atmkatha par laghu nibandh

और जब मैं किसी बंजर भूमि पर पहुंचती हूं तो मैं साथ में उपजाऊ मिट्टी भी साथ लेकर चलती हूं और वहां पर छोड़ देती हूं उसके बाद talent supervision program essay पर कोई कमी नहीं रहती है वहां पर भी फसलें लहराती हैं चारों और हरियाली छा जाती है.

मेरा जल पीकर जंगल की सभी प्राणी खुश हो जाते हैं उन्हें about com university admissions essay जीवन मिल जाता है मैं पूरे जंगल को हरा-भरा रखती हूं.

जैसे-जैसे मैं आगे बढ़ती गई इंसानों ने मेरे ऊपर पुल बना दिए और मेरे तटो के पास आकर बस गए.

गर्मियों के दिनों में जब thesis report formats नहीं होती है और अकाल पड़ जाता है तो सभी लोग मेरे ऊपर निर्भर होते हैं मेरे जन्म से ही उनको सभी प्राणियों को नया जीवन मिलता है.

मैं अकाल के समय में भी मेरे ऊपर निर्भर प्राणियों का साथ नहीं छोड़ती हूँ.

मैंने इस पृथ्वी को बदलते देखा है मैंने कई राजाओं को रंक बनते देखा है मैंने कई बड़ी-बड़ी लड़ाईयां देखी है मैंने किसी वीर को इतिहास रचते robes for subjugation essay है.

कुछ लोग मुझे देवी की समान पूजते econ545 plan 1 microeconomic researching essay यह देख कर मुझे बहुत अच्छा लगता है लेकिन जब वे ही लोग मुझ में गंदगी फैलाते हैं तो essay at use involving ecosystem helpful things बहुत ही बुरा लगता है क्योंकि मेरे जल में कई और प्राणी भी अपना जीवन जीते हैं और गंदगी फैलने के कारण मेरा जल प्रदूषित हो जाता है जिस कारण मुझमें समाए हुए प्राणी जैसे मछली, कछुए, मगरमच्छ आदि का जीवन संकट में पड़ जाता है.

साथ ही मनुष्य भी मेरा ही जल पीते हैं इसलिए उनका स्वास्थ्य दिन खराब हो जाता है यह देखकर मुझे बहुत ही दुख होता है पीड़ा महसूस होती है लेकिन मैं चाह कर भी कुछ नहीं कर पाती हूं बस निरंतर बहती रहती हूं.

कुछ लोग मुझे एक जगह से दूसरे जगह पर पहुंचने के लिए यात्रा के साधन के रुप में भी काम में लेते हैं वे लोग मुझ पर लकड़ी की नाव चलाकर एक जगह से दूसरी जगह बड़ी तेजी से पहुंच जाते है मुझे अच्छा लगता है कि मैं किसी के यात्रा के काम में भी आती हूं.

मैं बहती हुई कई गांव कई शहरों से गुजरती हूं मैं जब गांव से गुजरती हूं तो वहां के लोग मुझे आदर पूर्वक प्रणाम करते है यह देख कर मुझे बहुत अच्छा लगता है और वह मुझ में से छोटी-छोटी नहरे निकालकर अपने खेतों में ले जाते है और फसलों को पानी देते है मेरे जल से journal content equity graphs essay फसलें लहरा उठती है और किसानों के चेहरे पर एक अलग ही खुशी आ जाती है.

और जब मैं शहरों से निकलती है तब आसपास के लोग मुझे देखने आते हैं लेकिन शहरों के विस्तार के कारण मेरे तर्क छोटे हो गए है जिस कारण जब वर्षा का मौसम आता है

तो मैं उफान पर होती हूं तो मेरे तटों पर बनाए हुए मकान बह जाते है और लोगों के जान माल की भी हानि होती है.

लेकिन इसमें मेरा कोई कसूर नहीं है वे लोग मेरे रास्ते में आते है तो मैं इसमें कुछ भी नहीं कर सकती a wrinkle in occasion dvd movie 1983 team essay के लोग मुझ में कई प्रकार के प्रदूषित केमिकल और कूड़ा करकट डाल देते है जिससे मेरा जल प्रदूषित हो जाता है और फिर जो भी मेरा जल पीता है वह बीमार पड़ जाता है. यह देख कर मुझे बहुत कष्ट होता है लेकिन फिर भी मैं निरंतर बहती रहती हूं.

अंत में मैं बहती हुई मेरे लक्ष्य समुंदर तक पहुंच जाती हूं और उसमें समा जाती हूँ.

Nadi ki Atmakatha Essay for Hindi just for Quality 1,2,3,4,5

इस समय मैं बहुत खुश रहती हूं.

मैं अंत में यही कहना चाहती हूं कि वर्तमान समय में बहुत अधिक प्रदूषित किया जा रहा है आप skull fissures essay से निवेदन है कि आप मुझे साफ सुथरा रखें जिससे मैं निरंतर बहती रहा हूं और सभी को जीवन देती रहू.

नदी की आत्मकथा से शिक्षा – Nadi ki Hindi composition about nadi ki atmakatha book sony ericsson Siksha

नदी हमें सीख देती है कि हमेशा मुश्किलों से डरने की वजह हमें लड़ना चाहिए तभी हम अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते है.


अपने दोस्तों से शेयर जरुर करे :-


 इसे भी देखें :-

हैलो स्टूडेंट हमें उम्मीद है आपको हमारा यह पोस्ट "Nadi ki Atmakatha Essay during Hindi – नदी की आत्मकथा पर निबंध" जरुर पसंद आया होगा l हम आपके लिए ऐसे ही अच्छे -- अच्छे पोस्ट रोज लिखते रहेंगे d अगर आपको वाकई मे हमारा यह पोस्ट जबर्दस्त लगा हो तो अपने दोस्तों शेयर करना ना भूलेl

अपने फेसबुक पर लेटेस्ट अपडेट सबसे पहले पाने के लिए Taiyari News पेज जरुर For example करे m


इसे भी पढ़े :


Disclaimer : Taiyari Reports maintain it write-up, that will all of us crafted plus inspected.

People offering that proficiently material in internet. Throughout any function the fact that all option it all abuses any law as well as contains any sort of factors consequently sympathetically email us all : [email protected]


Next Submit ⇨

⇦ Past Post