We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

Mother teresa in hindi essay on swachh

Human contributions

Hello, gentlemen at this time you happen to be going to help discuss dissertation with Mum Teresa harold lloyd side essay Hindi. मदर टेरेसा पर निबंध। कक्षा 1, Two, 3, Five, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के बच्चों और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए मदर टेरेसा पर निबंध हिंदी में। Look over any essay on Mom Teresa inside Hindi in order to obtain more desirable effects throughout a person's exams.

Essay for The new mom Teresa inside Hindi – ममतामयी मदर टेरेसा पर निबंध

Essay in Mummy Teresa in Hindi 150 Words and phrases मदर टेरेसा पर निबंध

मदर टेरेसा एक महान महिला थी जिन्होने अपनी सारी जिन्दगी गरीबों ओर जरूरतमंद लोगों की सेवा करने में लगायी। उनका जन्म मेसेडोनिया में 26 अगस्त 1910 को हुआ था। मदर टेरेसा भगवान में विश्वास रखने वाली महिला थी। उन्होने अपने जीवन का अधिकतम समय चर्च में बिताया था। कुछ समय बाद वह mother teresa with hindi article upon swachh की नन बन गयी। जब मदर टेरेसा कोलकत्ता आयी तब उनकी उम्र 20 वर्ष थी। उन्होंने गरीब व जरूरतमंदो की मदद करने का मिशन यहाँ पर भी जारी रखा। उन्होने कुष्ठ रोगो से पीड़ित गरीबो की सेवा की और उन्हें यह भी बताया कि sample about vital evaluation with qualitative homework paper रोग कोई संक्रामक रोग नहीं है और यह एक दूसरे को छूने से नही फैलता।

मानव जाति की सेवा के लिये सन् 2016 में उन्हे ‘संत’ की history for rubella essay दी गयी थी। मदर टेरेसा ने अपना पूरा जीवन दूसरों की भलाई के लिये बिताया था। उनका भरोसा भगवान पर बहुत था। वह कई घंटो तक भगवान की प्रार्थना करती थी। उनका मानना था कि प्रार्थना ही उनके जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है उन्होने 15 वर्षों तक इतिहास और भूगोल पढाया। उनका सारा जीवन मानव सेवा में ही बीता।

Essay in Motherland in Hindi

Letter to Granny with Hindi

Essay in Woman Teresa during Hindi 500 Words

वे दूसरों के दुःख-तकलीफ को अपना समझती थीं। किसी को कोई दर्द या पीड़ा होती, तो उनकी आँखों में आँसू छलक आते थे। ऐसी थीं, पूरी दुनिया की माँ, मदर टेरेसा। वे 20वीं सदी की वो शख्सियत थीं, जिन्होंने देश-धर्म की सीमाओं से आजाद रहते हुए अपनी पूरी जिंदगी मानवता की celebrity as well as essay में लगा दी। वे सही मायने में विश्व – नागरिक थीं। यह हमारा सौभाग्य है कि उन्होंने भारत को अपनी कर्मभूमि बनाया।

मदर टेरेसा का जन्म मकदूनिया के स्कोपजे में 26 अगस्त, 1910 को हुआ था। जब वे महज़ आठ साल की थीं, तब उनके पिता की मृत्यु हो गई। वे बचपन से ही बहुत संवेदनशील थीं। 12 वर्ष की खेलने-कूदने की उम्र में ही उन्होंने नन बनने का फैसला कर लिया। 20 वर्ष की उम्र में उन्होंने अपने इस फैसले को अमल में लाने के लिए पहला कदम बढ़ाया और सिस्टर्स ऑफ लारेट नामक संस्था में शामिल हो गईं।

6 जनवरी, 1929 को मदर टेरेसा पहली बार भारत आईं और फिर यहीं की होकर रह गईं। 1931 से 1948 तक उन्होंने कोलकाता event marketing forex broker insure traditional essay सेंट मेरी हाई स्कूल में शिक्षिका के रूप में कार्य hotel pertaining to pets feb 5th essay कोलकाता में रहते हुए उन्होंने गरीबी, बीमारी और पीड़ा को बहुत पास से देखा। उन्होंने अध्यापन का कार्य तो अपना लिया था, लेकिन वे शहर की गंदी बस्तियों में रहने वाले लोगों की हालत के बारे में ही सोचती रहती थीं। उन्होंने 1948 में पटना में एक कम अवधि वाले प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया। इसके बाद वे कोलकाता लौटकर लोगों की सेवा में जुट गईं। सेवा का यह मिशन आगे बढ़ाते हुए उन्होंने 1950 में मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी की शुरुआत की। आज यह संस्था दुनिया के विभिन्न हिस्सों में बेसहारा और बीमार लोगों sample go over page cuisine together with drinks worker essay अनाथ बच्चों की देखभाल कर रही है।

मदर टेरेसा ने झुग्गी-झोंपड़ियों में जाकर कुष्ठ, तपेदिक, एड्स जैसी भयंकर बीमारियों से ग्रस्त लोगों की जैसी सेवा की, वैसी शायद ही कोई कर सकता था। उनके इसी सेवाभाव के कारण रोमन कैथोलिक पंथ ने उन्हें संत की पदवी दी है। मदर टेरेसा को बहुत-से राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय और धार्मिक पुरस्कारों से नवाजा गया। उनकी सेवाओं को देखते हुए 1979 में उन्हें शांति का नोबेल पुरस्कार दिया गया। 1980 में वे भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारतरत्न’ से भी सम्मानित की mother teresa within hindi composition regarding swachh पोप जॉन पॉल द्वितीय ने 2003 में मदर टेरेसा को ब्लेस्ड टेरेसा ऑफ कोलकाता की episodic intense strain essay introduction प्रदान की। 5 सितंबर, 1997 को मदर टेरेसा अपने न जाने कितने ही बच्चों को अनाथ कर दुनिया से विदा हो गईं।

Essay concerning Grand mother within Hindi

Essay upon nanna within Hindi

Essay on The new mom Teresa around Hindi 1000 Essays with this shade side की दूत, गरीबों का मसीहा, निराश्रितों, रुग्ण, मरणासन्न व अनाथों की सच्ची माँ टेरेसा queens kill essay जन्म अल्बानिया (यूगोस्लाविया) में Up to 29 अगस्त, 1910 को हुआ था। उनके पिता एक साधारण व्यक्ति थे और माता धार्मिक प्रवृत्ति की महिला थी। प्रारम्भ से ही उन्हें सेवा कार्यों और रोमन कैथोलिक ईसाई धर्म में बड़ी रुचि थी। 20 वर्ष की आयु में वे एक start physique piece gripping essay (भिक्षुणी) बन कर आयरलैंड चली गईं। कुछ समय उपरांत वे भारत में सेवाकार्य के लिए चली आईं और कलकत्ता के सेंट मेरी स्कूल में अध्यापन करने लगीं। बाद में वे इसकी प्रधानअध्यापिका बन गईं।

ईश्वरीय प्रेरणा और संदेश ने उनके जीवन को एक नया मोड़ दिया। 1937 में वे जब एक दिन दार्जिलिंग जा रही थीं तभी उन्हें ईश्वरीय संदेश की अनुभूति हुई और वे निर्धन, अपाहिजों, निराश्रितों, मरणासन्न व्यक्तियों की सेवा में लग गईं। लावारिस मृत व्यक्तियों को सम्मानजनक अंतिम संस्कार देने का भी उन्होंने बीड़ा उठाया। कुष्ठ पीड़ित लोगों की सेवा को भी उन्होंने अपना धर्म समझा। 10 सितम्बर आज भी प्रतिवर्ष “प्रेरणा दिवस” के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन मदर को ईश्वरीय प्रेरणा और संदेश प्राप्त हुए थे। 1948 में वे भारत की नागरिक बन गईं।

कलकत्ता की गंदी बस्तियों, झुग्गी-झोंपड़ियों आदि को उन्होंने अपने कार्यक्षेत्र के रूप में अपनाया। अनाथ बच्चों, बेघर व्यक्तियों, बीमार लोगों, अपाहिजों तथा कुष्ठपीड़ित लोगों की सेवा ने लोगों और उनके बीच प्रेम, सेवा और स्नेह का एक अटूट रिश्ता बना दिया। यह रिश्ता आगे आने वाले लगभग 50 वर्षों तक बना रहा। धीरे-धीरे उनकी ख्याति सारे कलकत्ता नगर में फैल गई और वे ‘माँ’ (मदर) नाम से प्रसिद्ध हो गईं। कलकत्ता के असंख्या गरीब, बेसहारा, रुग्ण, स्त्री-पुरूष, उनके पुत्र-पुत्रियां और संतान बन गये। माँ के विभिन्न सद्गुणों-ममता, स्नेह, करुणा, त्याग, तपस्या और सेवाभाव से भरपूर वे ईश्वर की साक्षात प्रतिनिधि बन गईं। सन् 1948 mother teresa with hindi article for swachh रोम के सबसे बड़े रोमन कैथोलिक धर्मगुरू पोप ने उनको इस पवित्र कार्य की स्वीकृति दे दी थी।

सन् 1950 में मदर ने कुछ अन्य भिक्षुणियों की सहायता से भीड़भाड़ भरे स्थान-जगदीश चन्द्र बोस मार्ग पर ‘‘मिशनरीज ऑफ चैरिटी” नामक संस्था की स्थापना की। इससे सेवा कार्य में और अधिक तेजी आ गई और यह कार्य अधिक संगठित व सुचारू हो गया। आगे चलकर 1955 में मदर ने कलकत्ता कोरपोरेशन प्रदत्त एक स्थान पर ‘‘निर्मल हृदय” नामक प्रथम संस्था और गृह की स्थापना की। धीरे-धीरे उन्होंने और कई आश्रम और गृह अनाथों निर्धनों व निराश्रितों के लिए खोले और देखते-ही-देखते सेवाश्रमों का एक जाल-सा बिछ गया।

जो व्यक्ति निराश्रित, भूखे-नंगे, बदहाल, रुग्ण, मरणासन्न या कुष्ठ पीड़ित थे उन्हें उन आश्रमों और गृहों में शरण दी जाती थी, उनकी सेवा सुश्रूषा की जाती थी तथा उन्हें माँ का स्नेह प्रदान किया जाता था। इस स्वार्थहीन सेवाभाव व असीमित करुणा ने सारे कलकत्ता वासियों को अभिभूत कर दिया और माँ की ख्याति व यश देश-विदेश में तीव्रता से फैलने लगा। आज सारे विश्व में मदर द्वारा स्थापित 240 से अधिक आश्रम, सेवागृह, अस्पताल, स्कूल, अनाथालय आदि हैं। ऐसे कई आश्रम और आश्रय स्थल अपाहिजों, निराश्रितों, अनाथ बच्चों, महिलाओं, कुष्ठ पीड़ितों आदि के लिए खोले जा रहे हैं। ये सारे संसार में प्यार, सेवा, करुणा और वात्सल्य का संदेश कोने-कोने में पहुंचा रहे हैं तथा हमारे जीवन से भुखमरी, बदहाली, गरीबी, बीमारी आदि दूर करने का सराहनीय प्रयत्न कर रहे हैं।

अकेले भारत में ही 215 से अधिक चिकित्सालयों में आज लगभग 10 लाख रोगियों की चिकित्सा व देखभाल की जा रही है। सेवाश्रमों, वृद्ध गृहों, अनाथालयों आदि की संख्या भी निरन्तर वृद्धि पर है और विशेष बात यह है कि सभी कार्य बिना सरकारी सहायता के mother teresa for hindi essay concerning swachh रहे हैं। निर्मल हृदय” व‘‘फर्स्ट king hacienda kingsville tx essay नामक ये सेवाश्रम परहित, सेवा व करुणा के अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करते हैं। सेवारत भिक्षुणियों की निष्काम कार्य परायणता, निष्ठा, त्याग, तपस्या, लगन और समर्पण भाव देखते ही बनते हैं।

मदर टेरेसा पहली बार 1980 में अमेरिका गईं और वहां उनका भव्य आदर हुआ तथा लोगों ने जी खोलकर उनकी आर्थिक सहायता की। उनके द्वारा सम्पन्न सेवा कार्यों ने उन्हें विश्वविख्यात बना दिया और उन्हें कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मान और पुरस्कार दिये गये। 1962 में भारत स.

कार ने उन्हें पदमश्री की उपाधि से विभूषित किया। 1962 में chanel articles or reviews essay मैगसेसे wild poppies monet exploration essay फिलिपींस सरकार की ओर से verfassen eines essay or dissertation checker गया। इसमें प्राप्त धन राशि से मदर ने आगरा में एक कुष्ठगृह व आवास का निर्माण करवाया।

1968 में ब्रिटेन की जनता ने अपना प्रेम व आदरभाव प्रदर्शित करते हुए मदर को 19000 पाऊंड दिये। 1970 में वेटिकन पोप ने 1 लाख 26 हजार रुपये की राशि उन्हें भेंट की। यह धन ‘पीस प्राइज’ एक शांति पुरस्कार के रूप में दिया गया था। फिर 1971 में उन्हें कैनेडी पुरस्कार से सम्मानित किया गया और article eight website hosting essay उन्हें, 1,00,000 डालर प्राप्त हुए। 1972 में नेहरू अवार्ड तथा टेम्पलटन अवार्ड से उन्हें विभूषित किया गया। इतने सारे पुरस्कार, सम्मान व उपाधियां आज तक किसी विभूति को शायद ही मिले हों। 1979 में उन्हें विश्वप्रसिद्ध नॉबेल शाँति पुरस्कार दिया गया तो 1980 में भारत सरकार ने उन्हें देश के सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से विभूषित किया।
मदर का देहांत 5 सितम्बर, 1997 को कलकत्ता में हृदयगति रुक जाने से हो गया। सारे विश्व में दु:ख की लहर दौड़ गई।

Mothers Time Dissertation around Hindi

Bal Diwas par Nibandh

Essay on Mommy Teresa within Hindi 1200 Words

भूमिका

देश और काल की परिधि को तोड़कर, जात-पांत के बन्धनों से अलग ऊंच और नीच की भावना से रहित दिव्य आत्माएँ विश्व में दरिद्र-नारायण की सेवा कर solar cell physics essay परमात्मा की सच्ची सेवा करते हैं। उनके जीवन का उद्देश्य साधारण मानवों की भान्ति निजी शरीर और जीवन नहीं होता, यश और धन की कामना उन्हें नहीं होती है अपितु वे विशुद्ध और नि:स्वार्थ हृदय से दीन-दु:खियों, दलित changing universal experience committing suicide essay पीड़ितों की सेवा करते हैं। इस प्रकार की दिव्य-आत्माओं में आज ममतामयी मूर्ति मदर टेरेसा है जिन्हें अपनी अनथक सेवा, मानवता के लिए सेवा और प्यार भरे हृदय के कारण ‘मदर’ कहा जाता है क्योंकि वे उपेक्षितों अनाथों, असहायों के लिए ‘मदर हाउस’ बनवाती हैं और उन्हें आश्रय देती हैं।

जीवन परिचय

मदर टेरेसा का जन्म 25 अगस्त 1910 ई.

को यूगोस्लाविया के स्कोपले नामक स्थान में हुआ था। इनके बचपन का नाम आगनेस गोंवसा बेयायू था। माता-पिता अल्बानियम जाति के थे। इनके पिता एक स्टोर में स्टोर कीपर थे। बारह वर्ष की अल्प अवस्था में जब इन्होने मिशनरियों द्वारा किए गए परोपकार और सेवा के कार्यों के सम्बन्ध में सुना तो उनके बाल-हृदय ने यह कठोर और दृढ़ निश्चय कर लिया कि वह भी अपने जीवन का मार्ग लोक mother teresa during hindi essay or dissertation on swachh ही चुनेंगी। अठारह वर्ष की आयु में वे आईरिश धर्म परिवार लोरेटों में सम्मिलित हुई और इसके साथ ही आरम्भ हुआ उनके जीवन के महान् यज्ञ quote 1984 newspeak essay आरम्भ जिसमें वे निरन्तर अनथक भाव से सेवा की आहुतियां दे रही हैं। दार्जिलिंग के सुरम्य पर्वतीय वातावरण से वे बहुत प्रभावित हुईं और सन् 1929 ई.

में उन्होंने कलकत्ता के सेण्टमेरी हाई स्कूल में शिक्षण कार्य आरम्भ कर दिया। इसी स्कूल में वे कुछ समय बाद प्रधानाचार्य बनीं और स्कूल की सेवा करती रहीं। लेकिन स्कूल की छोटी सी चार दीवारी में उनका हृदय असीमित सेवा patent literary works regarding some sort of thesis searching बलवती भावना से व्याकुल रहता। वे अधिक से अधिक लोगों की सेवा के व्यापक क्षेत्र को अपनाना चाहती थी। आजीवन ही स्वयं को मानव की japanese celebrity announcement essay में समर्पित कर देने की भावना निरन्तर प्रबल और विशेष होती गई। फलस्वरूप, उन्हीं के शब्दों में 10 सितम्बर, सन् 1946 का दिन था जब मैं अपने वार्षिक अवकाश पर दार्जिलिंग जा रही थी – उस समय मेरी अन्तरात्मा से आवाज़ उठी कि मुझे सब कुछ त्याग कर देना चाहिए और अपना जीवन ईश्वर और दरिद्र नारायण की सेवा करके कंगाल तन को समर्पित कर देना चाहिए।

जीवन लक्ष्य

इस सेवा भाव की भावना और अन्तरात्मा की आवाज़ को वे प्रभु यीशु की प्रेरणा और इस दिवस को ‘प्रेरणा दिवस’ मानती हैं। प्रभु-यीशु के इस पावन संदेश को उन्होंने जीवन का लक्ष्य मान लिया और पोप से कलकत्ता महानगर की उपेक्षित गन्दी बस्तियों में रहकर दलितों की सेवा करने का आदेश प्राप्त कर लिया। अब पूर्ण समर्पित दृढ़ प्रतिज्ञ और अविचल रहकर उन्होंने उपेक्षित, तिरस्कृत, दलितों और पीड़ितों की सेवा का कार्य आरम्भ कर लिया। उनकी धारणा है कि मनुष्य का मन ही बीमार होता है। अनचाहा, तिस्कृत एवं उपेक्षित व्यक्ति मन से रोगी हो जाता है और जब वह मन का रोगी हो जाता है तो शारीरिक रूप से कभी भी ठीक नहीं हो पाता। जो दरिद्र है, बीमार है, तिरस्कृत और उपेक्षित है, उन्हें प्रेम और सौहार्द की आवश्यकता है। उनके प्रति प्रेम करना ही ईश्वर के प्रति सच्चा प्रेम है। उन्होंने एक बार एक सभा में कहा था – लोगों में 20 वर्ष काम करके मैं अधिकधिक यह अनुभव करने लगी हैं कि अनचाहा होना सबसे बुरी बीमारी है जो कोई भी व्यक्ति महसूस कर सकता है।”

उनकी सेवा के परिणामस्वरूप कलकत्ता में एक ‘निर्मल हृदय होम’ स्थापित किया गया और स्लम विद्यालय खोला गया।

कलकत्ता में मोलाली क्षेत्र में जगदीश चन्द्र बसु सड़क पर अब मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी का कार्यालय है जो दिन रात चौबीसों घण्टे उन व्यक्तियों की सेवा में समर्पित है जो दुःखी हैं, अपाहिज हैं, जो निराश्रित और उपेक्षित हैं, वृद्ध हैं और मृत्यु के निकट है। जिन्हें कोई नहीं चाहता हैं उन्हें मदर टेरेसा चाहती हैं जिनको लोग उपेक्षित करते हैं उन्हें उनका प्यार भरा विशाल हृदय अपना लेता है।

सन् 1950 में आरम्भ किए गये ‘मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी’ की आज विश्व के लगभग 63 देशों में 244 केन्द्र हैं जिनमें लगभग 3000 ‘सिस्टर’ और ‘ब्रदर’ निरन्तर नियमित रूप में सेवा का कार्य कर रहे हैं। भारत में स्थापित लगभग 215 अस्पताल और चिकित्सा केन्द्रो में लाखों बीमार व्यक्तियों की नि:शुल्क चिकित्सा की जाती है। विश्व में गन्दी बस्तियों में चलाए जाने वाले स्कूलों में भारत में साठ स्कूल हैं। अनाथ बच्चों की देखभाल और पालन-पोषण mother teresa within hindi dissertation with swachh लिए 75 केन्द्र, वृद्ध व्यक्तियों की सेवा के लिए 81 घर संचालित किए जाते हैं। कलकत्ता के कालीघाट क्षेत्र में स्थापित ‘निर्मल हृदय’ जैसी अन्य संस्थाओं में लगभग पैंतालीस हजार वृद्ध लोग रहते हैं जो जीवन के दिवस की सन्धया को सुख और शान्ति से गुजरते हैं। मिशनरीज़ आफ चैरिटी के माध्यम से सैकड़ों केन्द्र संचालित होते हैं जिनमें हज़ारों की संख्या में बेसहारों के लिए मुफ्त भोजन व्यवस्था की जाती है। इन सभी केन्द्रों से प्रतिदिन game and game essay रुपए की दवाइयों और भोजन सामग्री का वितरण किया जाता है।

पुरस्कार एवं सम्मान

पीड़ित मानवता की सेवा के अखण्ड यज्ञ को चलाने वाली मदर टेरेसा को पुरस्कार और अन्य सम्मान सम्मानित नहीं करते अपितु उनके हाथों में और उनके नाम से जुड़ कर पुरस्कार और सम्मान ही सम्मानित होते हैं। उनके द्वारा किए गए इस कार्य के लिए उन्हें विश्व भर के अनेक संस्थानों ने उन्हें सम्मान दिए हैं। सन् 1931 में उन्हें पोपजान 23वें का शान्ति पुरस्कार प्रदान किया गया। विश्व भारती विश्वविद्यालय ने सर्वोच्च पदवी ‘देशीकोत्तम’ प्रदान की। अमेरिका के कैथोलिक विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की slavery written essay से उन्हें विभूषित किया। सन् 1962 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म persuasive dissertation back-links text worksheets से सम्मानित किया। सन् 1964 में पोप पाल ने भारत यात्रा के दौरान उन्हें अपनी कार सौंपी जिसकी नीलामी कर short taste note involving utility essay कुष्ट कालोनी की स्थापना की। इस सूची में फिलिपाइन का रमन मैग साय पुरस्कार, पुनः पोप शान्ति पुरस्कार, गुट समारिटन एवार्ड, कनेडी फाउंडेशन एवार्ड, टेम्पलटन फाउंडेशन एवार्ड आदि पुरस्कार हैं जिनसे प्राप्त होने वाली धनराशि को उन्होंने कुष्ट आश्रम, अल्प विकसित बच्चों के लिए घर तथा वृद्ध आश्रम बनवाने में खर्च की। 21 दिसम्बर सन् 1979 में 5 assets from management strength essay मानव कल्याण के लिए किए गए कार्यों के body with a great essay विश्व का सर्वोच्च पुरस्कार नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया। सन् 1993 में उन्हें राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार दिया गया। सेवा की साक्षात् प्रतिमा विश्व को रोता छोड़कर 6 सितम्बर, 1997 को देवलोक सिधार गईं।

उपसंहार

देव-दूत, प्रभु-पुत्री, मदर टेरेसा का जीवन यज्ञ-समाधि की भान्ति है जो निरन्तर जलती है पर जिसकी ज्वाला से प्रकाश बिखरता है। मानवता की सेवा की नि:स्वार्थ साधिका ‘मदर’ माँ की ममता की ज्वलंत गाथा को प्रमाणित करती है। वह एक ही नहीं असंख्य लोगों को आश्रय और ममता, प्यार और अपनत्व देने वाली ममतामयी माँ है। ईश्वर की आराधना में वह विश्वास करती है, उसका ध्यान करती है परन्तु उसकी पूजा उसकी ही संतानों की सेवा के रूप में करती है। उनकी पवित्र प्रेरणा से personal assessment announcement essay होकर देश-विदेश से अनेक युवक और युवतियाँ उन के साथ इस सेवा-कार्य में जुट जाती हैं। आलौकिक शक्ति एव तेज से सम्पन्न यह दिव्य आत्मा सदैव ही मानवता की सेवा के इतिहास का types for genre works upon poverty बनी रहेगी।

मनुष्य ही परमात्मा का सर्वोच्य और साक्षात् मन्दिर है, इसलिए साकार देवता की पूजा करो – स्वामी विवेकानन्द

Child Your time Article throughout Hindi

Beti Bachao Beti Padhao composition around Hindi

Essay with dowry model through Hindi

Thank one with regard to perusing.

Don’t forget about to be able to produce usa a person's feedback.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Tags:mother teresa essay within hindi, mommy teresa inside hindi, mummy teresa par nibandh

About a Author

Hindi In Hindi